The Correspondent

न हमारा न आपका- पीओके पाकिस्तान का : फारूख़ अब्बदुल्ला|हार्दिक पटेल की जनसभा डीएम ने की रद्द|27 से 29 नवबंर को पंजाब विधानसभा का शीतकालीन सत्र|पंजाब डिस्लरी रूल्स 1932 में बदलाव, लाईसैंस धारक को जगह बदलने की सुविधा|अपराध पर लगाम कसने को,अलग पुलिस विंग बनाने के फैसले को हरी झंडी|पंजाब को आर्थिक संकट से उबारने के लिए सब कमिटी का गठन|शब्द संभारे बोलिए, शब्द के हाथ न पांव ||मुख्यमंत्री द्वारा पटियाला खेल यूनिवर्सिटी की स्थापना संबंधी प्रगति का जायजा|मुख्यमंत्री ने इंग्लैंड और कैनेडा के दूतों के साथ भारतीय सैनिकों को दी श्रद्धाजंलि|सीडी,सियासत ,साज़िश !|संचखंड हरिमंदिर साहिब में नतमस्तक हुए राष्ट्रपति|पहली बार पंजाब के दौरे पर है महामहिम राम नाथ कोविंद|पद्दमावती को लेकर सिनेमाघरों को सुरक्षा नहीं|भगवान श्री राम टेंट में -उनके नाम पर करोडो की डील||आत्महत्या करने वाले किसानों/खेत मज़दूरों के परिवारों को बड़ी राहत: पंजाब सरकार

अब डरता है दाऊद

इकबाल कासकर ने पूछताछ में किेए अहम खुलासे
पाकिस्तान में ही है डॉन

अब डरता है दाऊद September 22, 2017

पुलिस के हत्थे चढ़े इकबाल कासकर ने अपने बड़े भाई और अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के बारे में कई अहम खुलासे किए हैं। उसने पुलिस को बताया है कि दाऊद फिलहाल पाकिस्तान में ही है। कासकर के मुताबिक, उसे पाकिस्तान में दाऊद के चार-पांच पतों की जानकारी है।

दाऊद को फोन टैपिंग का डर !
इकबाल कासकर ने बताया कि दाऊद फिलहाल कराची में रह रहा है। उसके पाकिस्तान में चार और ठिकाने हैं। दाऊद से संपर्क होने के बारे में पूछे जाने पर इकबाल ने बताया कि बड़े भाई अनीस अहमद ने उसे कई बार इंटरनैशनल नंबरों से संपर्क किया है। हालांकि, दाऊद ने बीते तीन सालों में कभी भी भारत में अपने एजेंट्स या रिश्तेदारों से संपर्क नहीं किया है। उसे डर है कि कहीं उसका फोन टैप न हो जाए। इकबाल कासकर का तो यह भी दावा है कि ठाणे में चल रहे जबरन वसूली के धंधे में दाऊद की कोई भूमिका नहीं है।

अनीस करता है भारत में संपर्क 
बता दें कि भारत के मोस्ट वॉन्टेड अपराधी दाऊद इब्राहिम के काफी वक्त से पाकिस्तान में होने के बारे में जानकारी है। हालांकि, पाकिस्तान इस बात से इनकार करता रहा है। दाऊद भले ही कुछ सालों से भारत में किसी से संपर्क करने में कतरा रहा हो, लेकिन उसके नजदीकी और भाई अनीस इकबाल कासकर के संपर्क में है। अनीस वही शख्स है, जो दाऊद को बिजनस चलाने में मदद करता है। कासकर ने बताया कि अनीस कई बार ईद और दूसरे मौकों पर अंतरराष्ट्रीय नंबरों से फोन करता रहा है। पुलिस के मुताबिक, अनीस अहमद भी 1993 बम धमाकों में शामिल रहा है।

कासकर को छोटा शकील से नफरत! 
कासकर पर आरोप है कि बीते 3 सालों में उसने ठाणे इलाके के जूलर्स और बिल्डर्स से करीब 100 करोड़ रुपये की उगाही की और ये पैसा दाऊद तक पहुंचाया। हालांकि, कासकर इस बिजनस में दाऊद की भूमिका को सिरे से खारिज करता है। कासकर ने ये भी बतलाया कि उसके दाऊद के सबसे खास गुर्गे छोटा शकील से अच्छे रिश्ते नहीं हैं। वह तो यह दावा करता है कि उसे छोटा शकील से नफरत है। पुलिस अब कासकर से उन कारोबारियों और बॉलिवुड हस्तियों के नाम उगलवाने में जुट गई है, जिनके दाऊद से अच्छे रिश्ते हैं। मामले से जुड़े एक सीनियर पुलिस अधिकारी ने बताया कि कासकर कुछ बातें बढ़ा-चढ़ाकर पेश कर रहा है। उसके बयानों की जांच हो रही है। इससे केंद्रीय एजेंसियों को दाऊद के खिलाफ मदद मिलेगी।

 

Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Leave a Reply