अर्थिया उठाने से अच्छा ,ज़िम्मेदारी उठायें |

अर्थिया उठाने से अच्छा ,ज़िम्मेदारी उठायें | August 3, 2017

पंजाब की हक़ीक़त जाननी और सुननी है तो ये गाना ज़रूर सुने | पंजाब के मशहूर लोक गायक पम्मी बाई के इस गाने के माध्यम से दर्शाया है कि किस तरह से नयी पीढ़ी खेत खलिहान से दूर होती जा रही है और किस तरह से किसान कर्ज़े के मार झेल रहा है | पम्मी बाई ने इस गाने में नयी पीढ़ी पर कटाक्ष भी किया है कि किस तरह से महंगे कपडे,गाड़ियों का शौक़ीन नौजवान अपने असली कर्तव्य किसानी से दूर हो गया है |इस गाने में बताया गया है की किस तरह से बंजर ज़मीन को पैदावार बनाने वाला किसान अब अंतिम पड़ाव पर है |आज मुद्दों से भटकी हुयी पंजाबी गायकी में पम्मी बाई ने अपने गाने के ज़रिये एक बड़ा मुद्दा उठाया है,वो एक चिंता का विषय भी है |
नीचे गाने का लिंक है ,एक बार सुने और विचार करे कि आज का किसान कहा खड़ा है|

Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Leave a Reply