धार्मिक आयोजन बने सिरदर्दी

छठ पूजा या धार्मिक आयोजन के लिए पुलिस का फरमान

धार्मिक आयोजन बने सिरदर्दी October 16, 2017

अगर अब आपको चंडीगढ़ में कोई धार्मिक कार्यक्रम करवाना है तो चंडीगढ़ पुलिस को ये लिखकर देखा होगा कि यहां कोई दंगा या जानमाल का नुकसान नहीं होगा…अगर आप ऐसा  नहीं करते हैं तो आपको कार्यक्रम करवाने की इजाजत नहीं दी जाएगी… दरअसल, पंचकूला में राम रहीम  के समर्थकों द्वारा मचाए गए उत्पात के बाद अब चंडीगढ़ पुलिस हर बड़े आयोजन को शक की निगाह से देख रही है… यही वजह है कि छठ पूजा  जैसे धार्मिक कार्यक्रम को भी इजाजत देने के लिए पुलिस ने अब सारी जिम्मेदारी आयोजकों के सिर पर ही मढ़ दी है…

छठ पूजा का आयोजन करने वाले बिहार परिषद से कहा गया है कि अगर वह लिखकर देंगे कि छठ पूजा में होने वाले जान माल के नुकसान के वह खुद जिम्मेदार होंगे तो ही वह छठ पूजा के आयोजन की अप्रूवल दे दी जाएगी…जबकि पुलिस ये भी भूल चुकी है कि इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले लोग किसी बाबा के समर्थक नहीं हैं…लेकिन ये वो लोग हैं जो हर साल की तरह इस बार भी अपने धार्मिक कार्यक्रम का हिस्सा बनना चाहते हैं…जबकि आज से पहले कभी भी इस आयोजन के लिए ऐसी कोई शर्त कभी नहीं रखी गई थी…

मजबूरी में दिया लिखकर

26 और 27 अक्टूबर को छठ पूजा होनी है। इस पूजा में हर साल करीब 50 हजार लोग हिस्सा लेते हैं…न्यू लेक सेक्टर-42 में होने वाले इस कार्यक्रम को पिछले कई सालों से बिहार परिषद द्वारा आयोजित किया जा रहा है…बिहार परिषद के अध्यक्ष उमाशंकर पांडे ने कहा कि हमें एसएसपी ऑफिस से कहा गया कि जब तक हम लिखकर नहीं देंगे तब तक इस आयोजन को करने की इजाजत नहीं होगी… पुलिस कह रही है कि जो पंचकूला में राम रहीम के मामले में हुआ वैसा कहीं यहां न हो जाए…इस पर उन्होने पुलिस से कहा कि वह प्रोटेस्ट था और यहां आस्था व धर्म की बात है लेकिन पुलिस ने एक न सुनी… हमें कहा गया कि अपनी जिम्मेदारी का लेटर एसएसपी ट्रैफिक और नगर निगम कमिश्नर को भेजें और मजबूरन हमने ऐसा किया भी…

जिम्मेदारी आयोजक की तो पुलिस क्या करेगी ?

उमा शंकर पांडे ने कहा कि हम यहां लोगों को फल-दूध जैसे प्रसाद बांटेंगे… कोई हादसा हो जाता है तो इसमें हम क्या कर सकते हैं…अगर सारी जिम्मेदारी लेते हुए हमें ही सब कुछ करना है तो फिर पुलिस व प्रशासन किस लिए है… हम अपनी सारी तैयारियां पूरी कर चुके हैं और ऐसे में छठ पूजा नहीं होती तो हमारा काफी नुकसान होता और लोगों के लिए भी यह दिन बहुत महत्व रखता है…

वहीं दीपक यादव, डीएसपी साउथ का कहना है कि हमने जो भी निर्देश जारी किए हैं वो नियमों के तहत ही किए हैं… फिर भी उन्होने इस मामले में जो भी संभव बन पाएगा…वो करने का आश्वासन दिया है….

 

 

 

Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Leave a Reply