The Correspondent

न हमारा न आपका- पीओके पाकिस्तान का : फारूख़ अब्बदुल्ला|हार्दिक पटेल की जनसभा डीएम ने की रद्द|27 से 29 नवबंर को पंजाब विधानसभा का शीतकालीन सत्र|पंजाब डिस्लरी रूल्स 1932 में बदलाव, लाईसैंस धारक को जगह बदलने की सुविधा|अपराध पर लगाम कसने को,अलग पुलिस विंग बनाने के फैसले को हरी झंडी|पंजाब को आर्थिक संकट से उबारने के लिए सब कमिटी का गठन|शब्द संभारे बोलिए, शब्द के हाथ न पांव ||मुख्यमंत्री द्वारा पटियाला खेल यूनिवर्सिटी की स्थापना संबंधी प्रगति का जायजा|मुख्यमंत्री ने इंग्लैंड और कैनेडा के दूतों के साथ भारतीय सैनिकों को दी श्रद्धाजंलि|सीडी,सियासत ,साज़िश !|संचखंड हरिमंदिर साहिब में नतमस्तक हुए राष्ट्रपति|पहली बार पंजाब के दौरे पर है महामहिम राम नाथ कोविंद|पद्दमावती को लेकर सिनेमाघरों को सुरक्षा नहीं|भगवान श्री राम टेंट में -उनके नाम पर करोडो की डील||आत्महत्या करने वाले किसानों/खेत मज़दूरों के परिवारों को बड़ी राहत: पंजाब सरकार

*पढ़ना है तो एक साँस में पढ़ें वरना नहीं -* रवीश कुमार….

*पढ़ना है तो एक साँस में पढ़ें वरना नहीं -* रवीश कुमार…. August 26, 2017

 

निर्भया के लिए रायसीना हिल्स को जंतर मंतर में बदल देने वाली हिन्दुस्तान की बची हुई बेटियाँ नोट करें कि दो साध्वी ने कैसे ये लड़ाई लड़ी होगी, जिसकी जेल यात्रा को प्रधानमंत्री के काफ़िले की शान बख़्शी गई। दोनों साध्वी किस हिम्मत से लड़ीं ? क्या आप जानती हैं कि जब वे अंबाला स्थित सीबीआई कोर्ट में गवाही देने जाती थीं तो कितनी भीड़ घेर लेती थी? हालत यह हो जाती थी कि अंबाला पुलिस लाइन के भीतर एस पी के आफिस में अस्थायी अदालत लगती थी। चारों तरफ भीड़ का आतंक होता था। जिसके साथ सरकार, उसकी दास पुलिस और नया भारत बनाने वाले नेताओं का समूह होता था, उनके बीच ये दो औरतें कैसे अपना सफ़र पूरा करती होंगी ? क्या उनके साथ सुरक्षा का काफिला आपने देखा? वो एक गनमैन के साथ चुपचाप जाती थी और पंद्रह साल तक यहीं करती रहीं। बाद में सीबीआई की कोर्ट पंचकुला चली गई। दो में से एक सिरसा की रहने वाली हैं, वो ढाई सौ किमी का सफ़र तय
करते पंचकुला जाती थीं और सिरसा के डेरे से निकल कर गुरमीत सिंह सिरसा ज़िला कोर्ट आकर वीडियो कांफ्रेंसिंग के ज़रिये गवाही देता था। तब भी आधी से अधिक गवाहियों में पेश नहीं हुआ। साध्वी का ससुराल डेरा का भक्त है। जब पता चला कि बहू ने गवाही दी तो घर से निकाल दिया। इनके भाई रंजीत पर बाबा को शक हुआ कि उसी ने प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को पत्र लिखा जिस पर कोर्ट ने संज्ञान ले लिया। रंजीत की हत्या हो गई। गुरमीत पर रंजीत की हत्या का आरोप है। इस गुमनाम खत को महान पत्रकार राम चंद्र छत्रपति ने दैनिक पूरा सच में छाप दिया। उनकी हत्या हो गई। राजेंद्र सच्चर, आर एस चीमा, अश्विनी बख़्शी और लेखराज जैसे महान वकीलों ने बिना पैसे के केस लड़ा। सीबीआई के डीएसपी सतीश डागर ने साध्वियों का मनोबल बढ़ाया और हर दबाव का सामना करते हुए जाँच पूरी की। शुक्रवार रात साढ़े आठ बजे छत्रपति के बेटे अँशुल छत्रपति से बात हुई। फैसला आने तक उनके पास एक गनमैन की सुरक्षा थी। बाद में मीडिया के कहने पर चार पाँच पुलिसकर्मी भेजे गए। अँशुल ने कहा कि एक बार लड़ने का फैसला कर घर से निकले तो हर मोड़ पर अच्छे लोग मिले। तो आप पूछिये कि आज आपके नेता किसके साथ खड़े हैं? बलात्कारी के साथ या साध्वी के साथ ? आप उनके ट्वीटर हैंडल को रायसीना में बदल दीजिए। सरकार बेटियाँ नहीं बचाती हैं। दोनों साध्वी ने बेटी होने को बचाया है। सत्ता उनकी भ्रूण हत्या नहीं कर सकी। अब इम्तहान हिन्दुस्तान की बची हुई बेटियों का है कि वे किसके साथ हैं, बलात्कारी के या साध्वियों के?

Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Leave a Reply