पप्पू और फेकू शब्द ने राजनीति का स्तर और पद की गरिमा गिराई |

पप्पू और फेकू शब्द ने राजनीति का स्तर और पद की गरिमा गिराई | November 16, 2017

Image may contain: 1 person, sunglasses

By:भूपेंद्र नारायण सिंह, 

पप्पू उत्तर प्रदेश और बिहार में फेमस नाम है, अभी भी वहा हर दस से पंद्रह आदमियों के बीच एक पप्पू नाम के व्यक्ति ज़रूर मिल जाएगा | प्रधानमंत्री जहाँ से सांसद है उसी बनारस में पप्पू टी स्टॉल सबसे फेमस दूकान है | पप्पू की दूकान ही 2014 में पीएम कैंडिडेट के प्रचार के लिए देश भर में ‘चाय पे चर्चा’ अभियान के दौरान शाम को वहां राइटर, आर्टिस्ट, पॉलिटिशन, एडवोकेट, फिल्म स्टार और टूरिस्ट्स का जमावड़ा होता था |

मशहूर लेखक और साहित्य अकादमी अवॉर्ड विजेता काशीनाथ सिंह की किताब में पप्पू की दूकान का खूब ज़िक्र है |
पिछले कई महीनो से इस पप्पू नाम को बदनाम कर राहुल गाँधी पर थोप दिया गया ,उन्हें बदनाम किया गया साथ में पप्पू नाम भी बदनाम हुआ | लेकिन राहुल गाँधी ने एक मर्यादा ज़रूर राखी वो है भाषा की ,उन्होंने साफ़ साफ़ कहा की प्रधानमंत्री के खिलाफ अपशब्द सोशल मीडिया में नहीं होना चाहिए ,असल में ये उन लोगो के ऊपर एक तमाचा है जो लोग राहुल गाँधी और पप्पू को बदनाम किये |
पप्पू नाम कई लोग संसद में सांसद बन कर आये और कई बने हुए है | इनके नाम को लोग उनके इलाके में इज़्ज़त और सम्मान के साथ लेते है | दिल्ली के मशहूर क्लैरिजेज होटल की साथ एक पान की दूकान है उसे पंडितजी की पान की दूकान कहते है ,यहाँ भी पप्पू नाम का शक्स बैठता है जो काफी फेमस है ,उसके हाथ द्वारा लगाए गए पान को लोग तरसते है| बीजेपी,कांग्रेस ,आरजेडी ,सपा, बसपा के ढेर सारे नेता इस पप्पू के पान के दीवाने है ,और हम भी |

नाम को बदनाम करने में बॉलीवुड का भी बड़ा रोल है | जिस मुन्नी शब्द का सम्बोधन लोग अपनी बिटिया के लिए करते थे उस मुन्नी पर गाना बनाया मुन्नी बदनाम हुई , उसी तरह पप्पू को भी निशाने पर लिया गया “पप्पू पास हो गया” |
फेकू तो बदनाम शब्द पहले से ही था,और इसको देश के प्रधानमंत्री के साथ जोड़कर पुरे सोशल मीडिया पर कैंपेन चला | इसमें कोई दो राय नहीं की इसमें भी राजनैतिक पार्टयों का योगदान खूब रहा |

अब जब शब्द ही अपने में निगेटिव है तो उसका ज़िक्र क्यों? और इसको किसी से जोड़े तो वाकई ये निंदनीय है | जिस तरह से चुनाव आयोग ने गुजरात चुनाव में बीजेपी के प्रचार में पप्पू नाम के शब्द पर रोक लगायी है ,ये वाकई सराहनीय कदम है और देश की सभय राजीनीति के लिए अच्छा भी |

Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Leave a Reply