मुझसे ज्यादा काबिल है दादा : मनमोहन सिंह

मनमोहन सिंह ने तोड़ी चुप्पी
दादा बोले मनमोहन जैसा पीएम नहीं हो सकता

मुझसे ज्यादा काबिल है दादा : मनमोहन सिंह October 14, 2017

देश के भूतपूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने अपनी चुप्पी आखिककार तोड़ ही दी.., दिल्ली में आयोजित किए गए एक समारोह में मनमोहन बोले “जब मैं प्रधानमंत्री बना, तब मुझे लगता था कि  प्रणब मुखर्जी इस पद के लिए मुझसे ज्यादा काबिल थे, लेकिन मैं कर ही क्या सकता था? कांग्रेस प्रेसिडेंट सोनिया गांधी ने मुझे चुना था…मेरे पास कोई रास्ता नहीं था…प्रणब को प्रधानमंत्री नहीं बनाने का शिकवा करने का पूरा हक है. “पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की ऑटोबायोग्राफी के तीसरे एडिशन ‘द कोएलिशन इयर्स :1996-2012’ के विमोचन के मौके पर मनमोहन की यह बात सुन सोनिया और राहुल भी मुस्कुरा दिए…

मनमोहन ने समारोह में कहा कि लोग जो भी कहें या लिखें, लेकिन यूपीए सरकार के वक्त उनके और प्रणब के बीच कोई गंभीर मतभेद नहीं थे… प्रणब उनकी टीम के सबसे अहम मेंबर थे…वह ही सकंट के वक्त सरकार को उससे उबार कर ले आते थे….उन्होंने कहा, “प्रणब अपनी मर्जी से राजनीति में आए, जबकि मेरा राजनीति में आना महज इत्तेफाक है ”

दादा बोले मनमोहन का पीएम बनना था सही

देश के भूतपूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने किताब के विमोचन से पहले एक इंटरव्यू में कहा, “मनमोहन को पीएम बनाने का सोनिया का फैसला सही था…मैं इससे जरा भी निराश नहीं हुआ…मुझे लगता है कि मै पीएम बनने के लायक नहीं था…इस अयोग्यता की सबसे बड़ी वजह यह भी थी कि मैं ज्यादा वक्त राज्यसभा में रहा हूं…हिंदी नहीं जानता…बिना हिंदी जाने किसी को देश का पीएम नहीं बनना चाहिए”…

लोकसभा चुनाव में हार के मुद्दे पर प्रणब ने कहा कि सीटों की गड़बड़ी और गठबंधन की कमजोरी के चलते यूपीए हारा…2012 में ममता बनर्जी द्वारा अचानक यूपीए से अलग होना भी इसकी एक बड़ी वजह है…

उन्होंने कहा, “यह कहना सहीं नहीं होगा कि 132 साल पुरानी पार्टी फिर से सत्तारूढ़ नहीं हो सकती है….पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम, नोटबंदी, जीएसटी, अर्थव्यवस्था जैसे मुद्दों पर ज्यादा घबराने की जरूरत नहीं है ”

Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Leave a Reply