The Correspondent

विनीत चौधरी हिमाचल के मुख्य सचिव की रेस में सबसे आगे |

विनीत चौधरी हिमाचल के मुख्य सचिव की रेस में सबसे आगे | December 29, 2017

सूत्रों के अनुसार सीनियर आई ए एस विनीत चौधरी को हिमाचल का नया मुख्या सचिव बनाया जा सकता है ,चौधरी केंद्रीय मंत्री जे पी नड्डा के बेहद करीबी बताये जाते है | लेकिन चौधरी पर कई दाग है ,जिसको आर एस एस ने गंभीरता से लिया है | बी जे पी के बड़े नेताओं ने चौधरी की पैरवी की है इसलिए उनका नाम सबसे आगे है लेकिन आल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज के 7000 करोड़ के घोटाले में जिस तरह से उनका नाम आया था इस पर कईओं को बेहद आपत्ति है ,हालाँकि विनीत चौधरी को इस 7000 करोड़ के घोटाले में क्लीन चिट  मिल चुकी है | असल में चौधरी मनमोहन सिंह के सरकार में भी ऊंचे पदों पर रहे है ,और उन्हें AIIMS में सह निदेशक बनाया गया था ,उस वक्त के स्वास्थय मंत्री गुलाम नबी आज़ाद ने भी इन पर कार्रवाई की बात की थी और मामला देश के सबसे बड़ी एजेंसी सी बी आई को सौंप दिया था | सी बी आई ने भी कड़ा रुख अपनाया लेकिन उस वक्त केंद्र की सरकार बदल चुकी थी | विनीत चौधरी हमेशा अपने पक्ष को रखते रहे की वो इस 7000 के घोटाले में शामिल नहीं है |

Image result for aiims delhiबी जे पी का एक वर्ग साफ़ कह रहा है की चौधरी को जान बुझ कर फसाया था ,और यही क्लीन चिट चौधरी को मुख्य सचिव बनाने में कारगर साबित हो रही है | हालाँकि जब हर्षवर्धन नयी सरकार में केंद्रीय स्वास्थय मंत्री बने तो उन्होंने भी वही बात कही जो पिछले स्वास्थय मंत्री गुलाम नबी आज़ाद ने कही थी ,बाद में हर्षवर्धन के मंत्रालय बदल दिया गया था और हिमाचल के जे पी नड्डा उसके बाद जब स्वास्थय मंत्री बने उस दौरान विनीत चौधरी को क्लीन चीट मिली |
इसमें कोई दो राय नहीं की हिमाचल में इस वक्त किसी की चल रही है तो वो है जे पी नड्डा  की | हिमाचल में कोई मंत्री बना तो वो भी उन्ही के आशीर्वाद से| इसलिए कयास लगाए जा रहे है की उनके बेहद करीबी विनीत चौधरी को मुख्य सचिव का पदभार जल्द दिया जाएगा | मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर दिल्ली में है और उसपर वो अपने नेताओं से मंत्रणा कर रहे है | लेकिन AIIMS के 7000 का घोटाला  अभी भी उनका पीछा कर रहा है |

Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Leave a Reply