The Correspondent

न हमारा न आपका- पीओके पाकिस्तान का : फारूख़ अब्बदुल्ला|हार्दिक पटेल की जनसभा डीएम ने की रद्द|27 से 29 नवबंर को पंजाब विधानसभा का शीतकालीन सत्र|पंजाब डिस्लरी रूल्स 1932 में बदलाव, लाईसैंस धारक को जगह बदलने की सुविधा|अपराध पर लगाम कसने को,अलग पुलिस विंग बनाने के फैसले को हरी झंडी|पंजाब को आर्थिक संकट से उबारने के लिए सब कमिटी का गठन|शब्द संभारे बोलिए, शब्द के हाथ न पांव ||मुख्यमंत्री द्वारा पटियाला खेल यूनिवर्सिटी की स्थापना संबंधी प्रगति का जायजा|मुख्यमंत्री ने इंग्लैंड और कैनेडा के दूतों के साथ भारतीय सैनिकों को दी श्रद्धाजंलि|सीडी,सियासत ,साज़िश !|संचखंड हरिमंदिर साहिब में नतमस्तक हुए राष्ट्रपति|पहली बार पंजाब के दौरे पर है महामहिम राम नाथ कोविंद|पद्दमावती को लेकर सिनेमाघरों को सुरक्षा नहीं|भगवान श्री राम टेंट में -उनके नाम पर करोडो की डील||आत्महत्या करने वाले किसानों/खेत मज़दूरों के परिवारों को बड़ी राहत: पंजाब सरकार

शिक्षा मित्रों, कपड़ा व्यापारियों सुनिये मेरी बात |

शिक्षा मित्रों, कपड़ा व्यापारियों सुनिये मेरी बात | August 3, 2017

रवीश कुमार,

सुबह से यूपी के शिक्षा मित्रों ने मेरे फोन पर धावा बोल दिया है। मेरा एक तरीका है। जब अभियान चलाकर दबाव बनाने की कोशिश होती है तो मैं दो तीन महीने रूक जाता हूँ। स्टोरी नहीं करता। मैं समझता हूं आपकी पीड़ा और परेशानी। कुछ साथियों के आत्महत्या करने की ह्रदयविदारक ख़बर देखी है। विचलित भी हूँ। सोच भी रहा था कि कुछ करता हूँ। अकेला आदमी हूं विषय को पढ़ने समझने में न्यूज की डेडलाइन जैसी पात्रता ख़त्म हो जाती है फिर भी ध्यान में था ही।

बात ये है कि किस हक से फोन पर धावा बोला गया? क्या मुझे शिक्षा मित्रों ने सांसद चुना है? विधायक चुना है? जिनको चुना है उनसे क्यों नहीं पूछते पहले। मैंने तो नहीं देखा इनमें से कभी किसी को मेरे लिए बोलते हुए। बल्कि ज़्यादातर गाली ही देते होंगे या जब गालियों से मुझे धमका कर चुप कराया जा रहा था तब चुप रहते होंगे। इस तरह से आप जनता ने ही पहले इस लोकतंत्र को कमज़ोर किया। सरकार से पूछने पर जब आप मुझे कमज़ोर करेंगे तो जब आप सरकार से पूछेंगे तो आपको कोई कमजोर कैसे नहीं करेगा।

पूरा जीवन लगाकर मैं यही कहता रहा कि सरकार चुनने के बाद मतदाता बन जाइये। किसी चिरकुट का फैन मत बनिये। न पत्रकार का न नेता का। आप किसी नेता का फैन बनकर खुद का विलय सरकार और विचारधारा में करेंगे तो जनता नहीं रह जाएंगे। आपका जनता के रूप में सरकार पर प्रभाव और दबाव ख़त्म हो जाता है। जैसे ही आप सरकार के समक्ष खड़े होंगे, आपको अल्पसंख्यक बना दिया जाएगा। अल्पसंख्यक होना धर्म से मुसलमान या सिख होना नहीं है। यह प्रक्रिया है उस आवाज़ को कुचलने की, जो अपनी मांग को लेकर सरकार के सामने खड़ी होती है।

बार-बार कहा मगर आप या आप जैसे लोग नहीं माने।गाय बकरी को लेकर जनता तेज़ी से जनता होने की अपनी पहचान छोड़ कर पार्टी विचारधारा में समाहित होती चली गई। जनता अल्पसंख्यक बनती चली गई । इसी के लिए अब विचारधारा की सरकार का मॉडल चलाया जा रहा है। पार्टी और सरकार की विचारधारा एक हो गई है।

इस मॉडल में जनता के पास विचारधारा से अलग होने का अवसर नहीं रहता। गुजरात में जब पटेल समाज को पुलिस ने पीटा तो बाकी जनता इसलिए चुप रही कि विचारधारा की सरकार कमज़ोर न हो जाए। पटेल के पैसे और समर्थन से भाजपा ने राज ज़रूर किया मगर वे पुलिस से इसलिए पीट गए क्योंकि वे जनता नहीं रहे। वो पीटने के बाद भी विचारधारा में ही रहेंगे। जैसे ही आप मेजारिटी की ताकत कायम करते हैं, माइनॉरिटी बन जाते हैं ।

इसलिए सूरत के कपड़ा व्यापारियों का आंदोलन बड़ी संख्या के बाद भी संघर्ष का मनोरंजन बन गया और बेअसर रहा। वो विरोध की जगह भजन करने लगे। सविनय अवज्ञा की जगह अनुनय-विनय करने लगे। आप समझते हैं कि हिंदू हिंदुत्व के लिए गोलबंद हो रहे हैं लेकिन असलीयत में आप जनता होने की पहचान खो रहे हैं।

जब जनता अपनी हैसियत खो देती है तो सरकार को अथॉरिटेरियन बनने की छूट मिल जाती है। सेवक सेवक बोल कर सरकार मास्टर हो जाती है। पिछले तमाम आंदोलन और आवाज़ की यही हालत हुई है। सूरत के कपड़ा व्यापारी हों या मंदसौर के किसान या यूपी के शिक्षा मित्र। सब लड़कर थक गए मगर मिला कुछ नहीं।

मेरे पास कोई सीएमओ पीएमओ नहीं है। अकेले ही आपके फोन उठाता हूँ, रोज़ बीस पत्रों के जवाब देता हूं और इतने ही पत्र पढ़ता हूँ। गोदी मीडिया का विज्ञापन भकोस कर आपने मुझे और सवाल पूछने की पंरपरा को कमज़ोर होने दिया।जब आपकी बारी आई तो कोई मीडिया आपके लिए नहीं है। यह कैसा समाज है कि लोग मुझ पर हंस रहे हैं कि अब तुम्हारी नौकरी चली जाएगी? आप क्यों तब चुप रहते हैं ?

मैं आपके मसले को समझने में लगा हूँ । मैं ही उम्मीद हूँ, कहकर मेरा भावनात्मक शोषण न करें । मुझे आपकी पीड़ा का अहसास है। जो बात कह रहा हूँ पहले समझिये। अगर आप वाक़ई एक लाख हैं तो सड़क पर आकर दिखाइये। लड़िए। हिन्दू मुस्लिम टापिक पर लड़ लड़ कर आपने समाज को पगला दिया है, उसे ठीक कीजिए। मुझे फोन करने से कुछ नहीं होगा।

आपकी उम्मीद,
रवीश कुमार

Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Leave a Reply