The Correspondent

न हमारा न आपका- पीओके पाकिस्तान का : फारूख़ अब्बदुल्ला|हार्दिक पटेल की जनसभा डीएम ने की रद्द|27 से 29 नवबंर को पंजाब विधानसभा का शीतकालीन सत्र|पंजाब डिस्लरी रूल्स 1932 में बदलाव, लाईसैंस धारक को जगह बदलने की सुविधा|अपराध पर लगाम कसने को,अलग पुलिस विंग बनाने के फैसले को हरी झंडी|पंजाब को आर्थिक संकट से उबारने के लिए सब कमिटी का गठन|शब्द संभारे बोलिए, शब्द के हाथ न पांव ||मुख्यमंत्री द्वारा पटियाला खेल यूनिवर्सिटी की स्थापना संबंधी प्रगति का जायजा|मुख्यमंत्री ने इंग्लैंड और कैनेडा के दूतों के साथ भारतीय सैनिकों को दी श्रद्धाजंलि|सीडी,सियासत ,साज़िश !|संचखंड हरिमंदिर साहिब में नतमस्तक हुए राष्ट्रपति|पहली बार पंजाब के दौरे पर है महामहिम राम नाथ कोविंद|पद्दमावती को लेकर सिनेमाघरों को सुरक्षा नहीं|भगवान श्री राम टेंट में -उनके नाम पर करोडो की डील||आत्महत्या करने वाले किसानों/खेत मज़दूरों के परिवारों को बड़ी राहत: पंजाब सरकार

स्वराज इंडिया और आम आदमी पार्टी एक साथ आने वाले हैं-यह खबर अफवाह है|

आम आदमी पार्टी के सोशल मीडिया पर इसका (अनौपचारिक तरीके से) जमकर प्रचार क्यों हो रहा है? इसमें भी कुछ खेल है क्या?

स्वराज इंडिया और आम आदमी पार्टी एक साथ आने वाले हैं-यह खबर अफवाह है| September 29, 2017

योगेंद्र यादव ने कहा है कि आम आदमी पार्टी में शामिल होना महज एक अफवाह है ,योगेंद्र ने कहा  “पिछले दो-तीन दिन में मुझे बहुत ज्यादा फोन आये। दुर्गा-पूजा पंडालों में घूमते वक्त कई जाने-अनजान लोगो ने पूछा। अनेक नए-पुराने साथियों ने बताया कि सोशल मीडिया पर एक खबर जोरों से चल रही है। कहा जा रहा है कि स्वराज इंडिया और आम आदमी पार्टी एक साथ आने वाले हैं। खबर पढ़कर आम आदमी पार्टी के कई कार्यकर्ताओं ने बहुत आशा भरे सन्देश भेजे, उधर स्वराज इंडिया के कई साथियों ने चिंता जताई।
मैंने दोनों को बताया कि यह अफवाह है। गौरी लंकेश की हत्या का एक महीना पूरा होने पर उनके कई साथी और शुभचिंतक दिल्ली में एक रैली का आयोजन कर रहे हैं। हम इसकी योजना में पहले दिन से शामिल रहे हैं, परसों आम आदमी पार्टी ने भी इसके समर्थन की घोषणा कर दी। बस इतनी सी बात है — 5 अक्टूबर की रैली में हमारे इलावा 10-15 संगठन रहेंगे, आम आदमी पार्टी भी रहेगी (मैं स्वयं तब किसान मुक्ति यात्रा में बनारस रहूंगा)।पहले भी नर्मदा बचाओ आंदोलन के समर्थन में ऐसा हो चुका है।
समझ नहीं आता कि इसमें इतनी क्या खबर थी। मीडिया नासमझी से खबर बनाये तो भी समझ आता है, लेकिन ये समझ नहीं आता कि आम आदमी पार्टी के सोशल मीडिया पर इसका (अनौपचारिक तरीके से) जमकर प्रचार क्यों हो रहा है? इसमें भी कुछ खेल है क्या? हर तीन-चार महीने बाद ये अफवाह क्यों चलायी जाती है? अगर आपको समझ आये तो बताइयेगा।
यह पोस्ट पहले लिख देता लेकिन आम तौर पर मैं अष्टमी और नवमी के दिन परिवार के साथ बिताता हूँ, सार्वजनिक काम से मुक्त रहता हूँ। आप सबको महानवमी की मंगलकामनाएं और एडवांस में ही “शुभो बिजोया” या दशहरा मुबारक! जिसने असत्य पर सत्य की विजय का अनुष्ठान बनाया उस महान संस्कृति को नमन!”

Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Leave a Reply