हरियाणा में बेटी नहीं “बेटा बचाओ” अभियान ज़ारी |

हरियाणा में बेटी नहीं “बेटा बचाओ” अभियान ज़ारी | August 8, 2017

हरियाणा में बेटी नहीं “बेटा बचाओ” अभियान ज़ारी |
चंडीगढ़ छेड़छाड़ मामले में पुलिस पर आरोप लग रहा है की उसने बी जे पी के हरियाणा अध्यक्ष सुभास बराला को मामूली डहर लगा कर बचने की कोशिश की ,पुलिस पहले खुद ऐसे ढहरो के तहत मामला दर्ज़ किया जिसमे आरोपी की ज़मानत न हो सके लेकिन बाद में मामूली धरा लगाकर मामले को रफादफा करने की कोशिश की ,अब मामले में हरियाणा के एक बी जे पी सांसद राज कुमार सैनी ने बराला की इस्तीफे की मांग की |प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चंडीगढ़ छेड़छाड़ मामले में काफी नाराज़ है ,सूत्रों के अनुसार उन्होंने पुरे मामले में पी एम ओ के एक अधिकारों को नज़र बनाये रकने के लिया कह है,सूत्रों के अनुसार य छेड़छाड़ के आरोपी बराला के बेटे विकास बराला के खिलाफ दर्ज एफआईआर में कुछ और सख्त धाराएं जोड़ी जा सकती हैं। गौरतलब है कि विकास के खिलाफ कमजोर धाराएं लगाकर उसे थाने से ही जमानत दे दी गई थी।छेड़छाड़ मामले में बी जे पी अध्यक्ष सुभाष बराला के बेटे के साथ शामिल आशीष कुमार का भी भारतीय जनता पार्टी के कद्दावर नेता के साथ सम्बन्ध बताये जा रहे है | बी जे पी के बड़े प्रवक्ता का करीबी है आशीष ,ये प्रवक्ता हरियाणा के पंचकूला में रहते है और अक्सर टेलीविज़न चैनल पर नज़र आते है \घटना के बाद आशीष का भी मोबाइल नंबर बंद है और प्रवक्ता भी अब खामोश है |

जिस तरह से बी जे पी अध्यक्ष सुभाष बराला के बेटे को चट छेड़छाड़ पट ज़मानत मिली, उससे चंडीगढ़ पुलिस के रोल पर संदेह होता है।
इसमे कोई दो राय नही की सुभाष बराला एक पॉवरफुल नेता है,लेकिन अगर उनके बेटे पर ये गंदे काम का आरोप है तो उन्हें खुद सामने आकर जवाब देना चाहिए और बेटे को बचाने के तिकड़मों से दूर उसे सजा दिलानी चाहिए तभी बेटी बचाओ अभियान की एक अच्छी शुरुआत हो सकती है नही तो बस ये नारा ही रहेगा।

Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Leave a Reply