Home Nation Chandigarh हरियाणा में कानून व्यवस्था तार-तार -सुशील गुप्ता

हरियाणा में कानून व्यवस्था तार-तार -सुशील गुप्ता

चंडीगढ़: राज्य सभा सांसद एवं आम आदमी पार्टी हरियाणा के सहप्रभारी डॉ सुशील गुप्ता ने कहा है कि किसानों के लिए सीधे सीधे मौत का फरमान बने कृषि से सबंधित तीनों कानूनों को वापिस लेने,पीपली तथा सिरसा में किसानों पर पर लाठी चार्ज करने,धान,बाजरा तथा मक्का की फसल को सरकार द्वारा न तो खरीदना तथा न ही न्यूनतम समर्थन देने के खिलाफ आम आदमी पार्टी आगामी 11 अक्टूबर रविवार को प्रात; 11 बजे करनाल स्थित मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के आवास का घेराव करेगी। जिसमें पूरे हरियाणा के आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता शामिल होंगें। उन्होंने कहा की कई हफ्तों से हरियाणा की मंडियों में किसान धान,बाजरा तथा दूसरी फसलें लेकर पहुँच रहे हैं लेकिन खरीद नहीं हो रही है। फसल की आवक के मुकावले खरीद न के बराबर हो रही है। पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने और गेट पास के नाम पर किसानों को परेशान किया जा रहा है।

सरकार नमी का बहना बना कर फसल खरीदने से इंकार कर रही है। जितनी भी खरीद हो रही है उसमें भी किसानों को एमएसपी नहीं मिल पा रहा है। जिसके चलते मजबूरी में किसान आने पौने दामों पर अपनी फसल प्राइवेट एजेंसियां को बेच रहे हैं। निजी एजेंसियां किसानों की मजबूरी का फायदा उठा कर उन्हें लूट रही है। उन्होंने कहा कि ये वही प्राइवेट एजेंसियां हैं,जिनके बारे में सरकार दावा का रही थी कि तीन नए कानून लागू होने के बाद फसल को एमएसपी से भी ऊंचे दामों खरीदेंगी। इससे सरकार की पोल खुल गई है तथा किसानों की वह आशंका सही सिद्ध हो गई है की ये सारी कवायद अडानी और अम्बानी के लिए की गई है। उन्होंने बताया की सरकार ने जीरी का एमएसपी 1888 रूपये निर्धारित किया हुआ है लेकिन किसान को 1700 रूपये भी नहीं मिल रहे हैं। इसी तरह कपास का एमएसपी 5515 निर्धारित है लेकिन किसान कपास को 3700 रूपये में बेचने को मजबूर है।

बाजरे के एमएसपी 2150 रूपये निर्धारित है लेकिन किसान इसे 1250 रूपये एक बेचने के लिए मजबूर हो रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार की नीयत का फर्दा फास हो गया है की इन कानूनों में न्यूनतम समर्थन मूल्य देने तथा उसकी उलंघना करने पर दण्ड का प्रावधान क्यों नहीं किया था।
राज्य सभा सांसद डॉ सुशील गुप्ता ने प्रदेश की भाजपा-जजपा गठबंधन की सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है की हरियाणा में सरकार नाम की कोई चीज नहीं है पूरी तरह जंगल राज फैला हुआ है जिसका ताजा ताजा प्रमाण भाटला-महजत रोड पर बदमाशों द्वारा फैक्ट्री मालिक से 11 लाख लूट कर तथा उसे कार में बिठा कर जिन्दा जलाये जाने की घटना है जिसकी जितनी भी निंदा की जाए उतनी ही कम है।

उन्होंने कहा कि इस वीभत्स घटना ने देश के लोगों को झकझोर दिया है। उन्होंने पूछा है कि सुसाशन का राज देने का दम भरने वाली सरकार आखिर कहाँ है,की प्रदेश में लोगों की जान व् माल लूटी जा रही है और सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी है। प्रदेश में कानून व्यवस्था ठप्प है,अफसरसाही हावी है,सत्ता पक्ष के मंत्री तथा विधायक तक भी निरंकुश अफसरसाही के सामने बेबस एवं लाचार है। जिसकी वजह से कहीं मंत्री अधिकारीयों के खिलाफ सोशल मिडिया के माध्यम से जहर उगल रहे हैं,तथा उनके खिलाफ मुकदमे तक दर्ज हो रहे है,तो कहीं विधायक अधिकारीयों के खिलाफ धरना दे रहे हैं। पूरे प्रदेश में चोरी डकैती,हत्या,बलात्कार जैसे आपराधिक मामले चरम पर पहुँच चुके हैं,जोकि हरियाणा में पूरे देश के आंकड़ों के अनुसार तीसरी सबसे बड़ी आपराधिक दर है। उन्होंने कहा है कि हरियाणा का हर व्यक्ति इस गठबंधन सरकार से दुखी है।

हरियाणा के सभी विभागों के कर्मचारी हताश और परेशान है तथा सभी ने सरकार के खिलाफ आंदोलन छेड़ रखे हैं,सरकारी नौकरियां छीनी जा रही हैं। लेकिन किसी की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। प्रदेश में किसान,मजदूर जहां त्राहि त्राहि कर रहा है वहीँ प्रदेश में व्यापार पूरी तरह ठप्प हो चूका है। प्रदेश सरकार की नीतियों की वजह से आमजन रोजी रोटी के लिए मोहताज है और वह समझ नहीं पा रहा है की वह करे भी तो क्या करे। हरियाणा का मतदाता भाजपा की सरकार बना कर अपने आप को ठगा सा मह्शूश कर रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार पूरी तरह फेल हो चुकी है तथा लोगों का विश्वास खो चुकी है। इसलिए इसे अब एक मिनट भी सत्ता में बने रहने का कोई हक नहीं रह गया है।

इसलिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर तुरंत ही त्याग पत्र दे देना चाहिए
उन्होंने कहा किकिसानों के मसीहा चैधरी देवीलाल मरते दम तक हमेशा किसानों के हित में लड़ते रहे लेकिन उन्ही के नाम पर सत्ता हासिल करने वाले जजपा पार्टी के दुष्यंत चैटाला सत्ता के इतने लालोपी हो गए हैं की किसान पुलिस से पिट रहा है उसकी एमएसपी मिलने के सभी रास्ते बंद हो गए है उसके बाद भी सत्ता से क्यों चिपके बैठे हैं ? वह उप मुख्यमंत्री पद से त्यागपत्र क्यों नहीं दे रहे हैं ? अब इन्हें किसान से ज्यादा प्यारी कुर्सी दिखाई दे रही है।

हरियाणा एवं पंजाब दोनों ही राज्यों में पिछले सात दशक से मंडी बोर्ड सिस्टम के जरिये खरीद प्रणाली जारी है और यह सफलता से चल रही है। हरियाणा में राज्य कृषि विपणन मंडल अनाज मंडियों में किसानों की फसल आढ़तियों के जरिये न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदने की प्रक्रीया को हेंडल करता है। अकेले हरियाणा प्रदेश में करीब 113 अनाज मंडियां,168 सब यार्ड एवं 196 खरीद केंद्र हैं। हरियाणा में लगभग 25 हजार आढ़ती हैं जबकि करीब 16-17 लाख किसान परिवार हैं। मंडी सिस्टम से करीब ढाई लाख मजदूर परिवार भी इससे जुड़े हैं तो केंद्र सरकार इन काले बिलों को लाकर इन लाखों लोगों का मुहं का निवाला क्यों छीन रही है ?

राज्य सभा सांसद ने कहा है कि ये तीनों ही बिल किसान,आढ़ती एवं मजदूर विरोधी हैं तथा एक तरफ यह अन्नदाता पर कुठाराघात है तो दूसरी तरफ आढ़तियों एवं मजदूरों की रोजी रोटी छीनने वाला है। आम आदमी पार्टी इन काले कानूनों का जब तक विरोध करती रहेगी जब एक सरकार इनको वापिस नहीं ले लेती। उन्होंने कहा की केंद्र सरकार अडानी एवं अम्बानी को पूरे देश में इस तरह स्थापित करना चाहती है,जिस तरह अंग्रेजों ने ईस्ट इंडिया कम्पनी को देश में स्थापित किया था नतीजन इस कम्पनी का लम्बे समय तक देश पर ही कब्जा रहा। बीजेपी सरकार भी इसी तरह ही देश को निजीकरण की तरफ ले जा कर देश को पूंजीपतियों के हाथ में सौंपना चाहती है,जिसे सफल नहीं होने दिया जाएगा तथा उसका डट कर मुकाबला किया जाएगा। उन्होंने कहा की आम आदमी पार्टी किसानों,आढ़तियों एवं मजदूरों के साथ खड़ी है,तथा इन्हें सहारा देने का काम करेंगें।

उन्होंने बताया कि आम आदमी पार्टी ने पहले भी राज्य भर में जिला मुख्यालयों पर धरना प्रदर्शन एवं काला दिवस मनाया है तथा आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने प्रत्येक जिला मुख्यालय पर एकत्रित होकर काली पट्टी बांध कर धरना प्रदर्शन कर इन विधेयकों का विरोध किया है तथा इन काले कानूनों को निरस्त करने के लिए राष्ट्रपति के नाम जिला उपायुक्तों को ज्ञापन भी सोंपें हैं। अब आम आदमी पार्टी आगामी 11 अक्टूबर रविवार को प्रात;11 बजे करनाल स्थित मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के आवास का घेराव करेगी। जिसमें पूरे हरियाणा के किसान व आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता शामिल होंगें। प्रैस वार्ता में श्री बी के कौशिक संयोजक उतरी हरियाणा, श्री कृष्णा अग्रवाल वरिष्ठ उपाध्यक्ष मध्य हरियाणा, श्री सुरेन्द्र राठी संयोजक जिला पंकचुला शंकर सागर नसीब सिंह जसबीर जस्सी जगमोहन शामिल हुए। 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here